रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं

रास्ते कहाँ ख़त्म होते हैं ज़िन्दगी के सफ़र में,
मंज़िल तो वहीँ है जहां ख्वाहिशे थम जाए..।।

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *