जब भी खोला है ये माज़ी का दरीचा मैं ने

जब भी खोला है ये माज़ी का दरीचा मैं ने

कोई तस्वीर ख़यालों में नज़र आती है

~फ़रह इक़बाल

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *